Tumhari Ada Dard Shayari

tumhari-ada-dard-shayari

तुम्हारी अदा का क्या जवाब दूँ
अपने दोस्त को क्या उपहार दूँ,
कोई अच्छा सा फूल होता तो माली से मंगवाता
जो खुद गुलाब है, उसको क्या गुलाब दूँ

tumhaari ada ka kya javaab doon
apane dost ko kya upahaar doon,
koy achchha sa phool hota to maali se mangavaata
jo khud gulaab hai, usako kya gulaab doon

andhera mita kar saher chod jaunga
ek roz phir tera saher chod jaunga
अँधेरा मिटा कर शहर छोड़ जाऊंगा
एक रोज़ फिर तेरा शहर छोड़ जाऊंगा

kabhi sucha na tha ke wo mujhe tanha kar jayega
jo aksar pareshan dekh kar kehta tha main hona
कभी सोचा न था के वो मुझे तनहा कर जायेगा
जो अक्सर परेशां देख कर कहता था मैं होना

from Dard Bhari Shayari