Dard Bhari Shayari Uske Intzaar Me

dard-bhari-shayari-uske-intzaar-me-hoon

हकीकत बयां करू तो मैं उसके इन्तजार में हूँ
पर क्या करू मैं नए रिश्तो की दीवार में हूँ
hakeeqat bayaan karoo to main usake intajaar mein hoon
par kya karoo main nae rishto kee deevaar mein hoon

nafrat karoge to bhi aaunga tere pass
dekh tere bgair rahene ki adat nahi mujhe
नफरत करोगे तो भी आउंगा तेरे पास
देख तेरे बगैर रहने की आदत नहीं मुझे

duniya ko aag lagane ki zarurat nahi
to mere saath chsl aag khud lag jayegi
दुनिया को आग लगाने की ज़रूरत नहीं
तो मेरे साथ चसल आग खुद लग जाएगी

mat pocha karo raat bhar jagne ki waja hatein
mohabbat main kuch sawalon ke jawab nahi hote
मत पूछा करो रात भर जागने की वजह हटें
मोहब्बत मैं कुछ सवालों के जवाब नहीं होते

wo mera naam na le sirf pukare tu sahi
kuch bahan to mile ke daod ke aao
वो मेरा नाम न ले सिर्फ पुकारे तू सही
कुछ बहन तो मील के दोड़ के अऊ

from Dard Bhari Shayari