waqt shayri two line

waqt-shayri-two-line

एक वक़्त था जब बाते ख़त्म नही होती थी
आज सब कुछ ख़त्म होता है पर बात नही होती
वक़्त पे शायरी

Waqt Shayari - वक्त पर शायरी