wo bacche

wo-bacche

फरिश्ते आकर उनके जिस्म पर खुशबू लगाते थे
वो बच्चे रेल के डिब्बों में अब झाडू लगाते हैं,

from Maa Shayari Mother Day