wo iltiza bhi karta hai

shayari-ki-diary-wo-iltiza-bhi-karta-hai

जो हुकुम करता है, वो इल्तज़ा भी करता है,
आसमान कही झुका भी करता है,
और तू बेवफा है तो ये खबर भी सुन ले,
इन्तेज़ार मेरा कोई वहा भी करता है

jo hukum karata hai, vo iltaza bhi karata hai,
aasamaan kahi jhuka bhi karata hai,
aur too bevapha hai to ye khabar bhee sun le,
intezaar mera koee vaha bhi karata hai
शायरी की डायरी, शायरी की डायरी फोटो,
shayari ki dayari, शायरी की दुनिया

from Shayari Ki Dayari - शायरी की डायरी,