Ye phool ye khushboo

ye-phool-ye-khushboo

"ये फूल ये खुशबू ये बहार, तुमको मिले ये सब उपहार, आसमा के चाँद और सितारे, इन सब से तुम करो सृंगार , तुम खुश रहों आवाद रहों, खुशियों का हो ऐसी फुहार, हमारी ऐसी दुआ हैं हजार, दामन तुम्हारा छोटा पर जाए, जीवन में मिले तुम्हे इतना प्यार"

from Naye Saal Ki Shayari