Dard Bhari Shayari Zindagi Kahte Hai

dard-bhari-shayari-zindagi-kahte-hai

जो पल पल चलती रहे, उसे जिंदगी कहते है
जो हरपल जलती रहे, उसे रोशनी कहते है
जो पलपल खिलती रहे, उसे मोहब्बत कहते है
जो साथ न छोड़े कभी, उसे दोस्ती कहते है

marta nahi koi kisi ke bigair ye hakikat hai zindagi
lekin sirf saans lene ko jeena to nahi kehte
मरता नहीं कोई किसी के बगैर ये हकीकत है ज़िन्दगी
लेकिन सिर्फ सांस लेने को जीना तो नहीं कहते

har jakham ki aagosh main dard tumhara hai
har dard main taskeen ka ehsaas bhi tum hi ho
हर जख्म की आगोश मैं दर्द तुम्हारा है
हर दर्द मैं तस्कीन का एहसास भी तुम ही हो

hum nahi karte ishq se ishq to hamara pesha hai
wo ishq hi gaya jis main yaar bewafa hai
हम नहीं करते इश्क़ से इश्क़ तो हमारा पेशा है
वो इश्क़ ही गया जिस मैं यार बेवफा है

hum ishq ke wo mukaam par khade hai
jahan dil kisi aur ko chahe to gunha lagta hai
हम इश्क़ के वो मुकाम पर खड़े है
जहाँ दिल किसी और को चाहे तो गुन्हा लगता है

from Dard Bhari Shayari