zindagi ki dasta

zindagi-ki-dasta

कोई मिला ही नही जिसको वफा देता
सभी ने धोखा दिया किस किस को सज़ा देता
ये तो हम थे की चुप रह गए वरना
दास्तान सुनाता तो महफ़िल को रुला देता

Famous Shayari