Zindagi Mohabbat Hindi Romantic Shayari

romantics-shayari-zindagi-mohabbat

hme khan maaloom tha ki ishq hota hai kya
bas ek tum mile aur zindagi mohabbat ban gaei
हमे कहाँ मालूम था की इश्क होता है क्या
बस एक तुम मिले और ज़िन्दगी मोहब्बत बन गयी

mohabbaton ke ye dariya utar na jaye kahi
jo gulaab dil main jhakhmo se bhar na jaye kahi
मोहब्बतों के ये दरिया उतर न जाये कही
जो गुलाब दिल मैं झख्मो से भर न जाये कही

chod ye baat mile kitne jakham kaha se
aye zindagi itna bata kitna safar baaki hai
छोड़ ये बात मिले कितने जखम कहा से
ए ज़िन्दगी इतना बता कितना सफ़र बाकी है

rahe mohabbat main azab sa haal huwa hai apna
na zajakham najar aata hai na dard najar aat hai
रहे मोहब्बत मैं अज़ाब सा हाल हुवा है अपना
न ज़जखम नजर आता है न दर्द नजर आत है

tumhe meri mohabbat ki kasam such batana
gale main daal kar bahen kisse sikha hai
तुम्हे मेरी मोहब्बत की कसम सच बताना
गले में डाल कर बाहें किससे सीखा है

from Romantic Shayari